Wednesday, February 8, 2023
Homeउत्तराखंडखुली बहस में नहीं पहुंचे मंत्री मदन कौशिक,डिप्टी सीएम सिसोदिया करते रहे...

खुली बहस में नहीं पहुंचे मंत्री मदन कौशिक,डिप्टी सीएम सिसोदिया करते रहे इन्तजार

दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया और उत्तराखंड के शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक के बीच दोनों राज्यों के विकास मॉडल को लेकर चार जनवरी को होने वाली खुली बहस नहीं हो पाई। केजरीवाल बनाम उत्तराखंड सरकार मॉडल पर खुली बहस के लिए सोमवार को देहरादून स्थित ऑडिटोरियम पहुंचे डिप्टी सीएम सिसोदिया कैबिनेट मंत्री मदन कौशिक का इंतजार करते रहे। 40 मिनट तक कैबिनेट मंत्री मदन कौशिक का इंतजार करने के बाद वहां से चले गए। खुली बहस में कैबिनेट मंत्री के न पहुंचने पर उप मुख्यमंत्री ने त्रिवेंद्र सरकार पर तंज कसा।

मनीष सिसोदिया ने कहा कि अगर उत्तराखंड में कुछ काम हुआ होता तो सामने आकर वह बताते। इसके बाद डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया त्रिवेंद्र सरकार के विधानसभा क्षेत्र डोईवाला के जीवनवाला, लालतप्पड़ में एक सरकार स्कूल का निरीक्षण करने पहुंचे। सिसोदिया ने यहां स्कूल की दशा देखी और कहा कि जब सीएम की विधानसभा के सरकारी स्कूल का यह हाल है तो फिर बाकी प्रदेश के स्कूल की हालत क्या होगी इसका अनुमान लगाया जा सकता है। सरकारी स्कूलों का निरीक्षण करने पहुंचे दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसोदया ने कहा कि अब वह 2022 के चुनाव में सरकार से यहां के विकास का हाल पूछेंगे। आप सभी 70 सीटों पर चुनाव लड़ेगी।

दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसोदया ने उत्तराखंड में विकास पर खुली बहस के लिए उत्तराखंड के कैबिनेट मंत्री को चुनौती दी थी। इसको कैबिनेट मंत्री मदन कौशिक ने स्वीकार भी कर लिया था। मंत्री कौशिक ने कहा था कि उत्तराखंड बनाम दिल्ली मॉडल पर चर्चा के लिए वह खुद दिल्ली जाएंगे। दिल्ली के उपमुख्यमंत्री सिसोदिया के चार जनवरी को देहरादून में बहस के लिए तारीख तय करने से कुछ नहीं होता। आपको बता दें कि उत्तराखंड में विधानसभा चुनाव लड़ने का ऐलान कर चुकी आम आदमी पार्टी भाजपा पर सियासी हमले कर रही है। पिछले महीने देहरादून आए आप नेता और दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने राज्य सरकार पर विकास के मोर्चे पर नाकाम होने का आरोप लगाया था। उत्तराखंड और दिल्ली के मॉडल पर खुली बहस की चुनौती दी थी। इसे शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक ने स्वीकार किया था।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -
Google search engine

Most Popular