Friday, September 30, 2022
Homeउत्तराखंडहरिद्वार महाकुम्भ का शुभारम्भ, पहले दिन बड़ी तादाद में पहुंचे श्रद्धालु

हरिद्वार महाकुम्भ का शुभारम्भ, पहले दिन बड़ी तादाद में पहुंचे श्रद्धालु

हरिद्वार। हरिद्वार में गुरूवार से महाकुंभ-2021 का श्रीगणेश हो गया है। हरिद्वार महाकुंभ इस बार कोविड के चलते 30 अप्रैल तक चलेगा। महाकुंभ में गंगा स्नान के लिए श्रद्धालुओं को कोविड-19 की 72 घंटे पहले तक की आरटीपीसीआर निगेटिव रिपोर्ट लानी होगी।

जिले के सभी बॉर्डर और मेला क्षेत्र में स्वास्थ्य विभाग श्रद्धालुओं की रैंडम सैंपलिंग करेगा। धर्मशालाओं और होटलों में बिना कोविड निगेटिव रिपोर्ट के श्रद्धालु नहीं ठहर पाएंगे।

महाकुंभ मेला अधिकारी दीपक रावत और महाकुंभ आईजी संजय गुंज्याल ने मां गंगा की पूजा कर मेले के सफल संचालन की प्रार्थना की। किसी तरह की दुर्घटना न हो, सभी लोग यहां पर आएं, आनंद से स्नान करें, अच्छे अनुभव लेकर जाएं और सब कुछ सकुशल हो।

उन्होंने कहा कि महाकुम्भ में आने वाले सभी श्रद्धालुओं को एसओपी का पालन करना चाहिए। ताकि हम सुरक्षित व भव्य कुम्भ को निर्विघ्न सम्पन्न करा सकें। इस अवसर पर गंगा महासभा की ओर से आचार्य अमित शास्त्री ने गंगा सभा कार्यालय में मेलाधिकारी, पुलिस महानिदेशक, एसएसपी कुम्भ को गंगाजलि व प्रसाद भेंट किया।

कुंभ मेला सीएमओ डॉ. एसके झा ने बताया कि बॉर्डर और मेला क्षेत्र में रैंडम सैंपलिंग की जाएगी। अतिसंवेदनशील राज्यों से आने वाले परिवारों के एक-दो सदस्यों के रैंडम सैंपल लिए जाएंगे। बॉर्डर पर पॉजिटिव आने पर सभी लोगों को लौटा दिया जाएगा।

मेला क्षेत्र में पॉजिटिव मिलने वालों को कोविड केयर सेंटरों में आइसोलेट किया जाएगा। जांच के लिए 33 टीमें बनाई हैं। इनमें दस निजी और 23 सरकारी हैं। 10 हजार से अधिक एंटीजन सैंपल रोजाना लिए जाएंगे।

सीएमओ डा. एसके झा ने बताया कि राज्य सीमा, रेलवे स्टेशन और बस अड्डे समेत 11 स्थानों पर 33 जांच टीमें लगाई गई हैं। वहीं, श्रद्धालुओं के सीधे संपर्क में आने तीर्थ पुरोहितों, व्यापारियों, धर्मशाला और होटल संचालकों की आरटीपीसीआर जांच की जाएगी।

बढ़ते कोरोना संक्रमण ने सरकार और मेला प्रशासन की मुश्किलें बढ़ा दी हैं। मेला प्रशासन की ओर से तमाम कदम उठाए गए हैं। इन्हीं क्रम में अब सिंचाई विभाग की ओर से हरकी पैड़ी के मुख्य घाट से लेकर समूचे स्नान घाटों पर श्रद्घालुओं को शारीरिक दूरी का पालन कराने के लिए सफेद रंग से गोले बनाए जा रहे हैं।
कोविड की दूसरी लहर से जूझ रहे 12 राज्यों से लौटने वाले हरिद्वारवासियों को भी 72 घंटे पहले तक की आरटीपीसीआर निगेटिव रिपोर्ट लानी होगी। बिना रिपोर्ट के स्थानीय लोगों और फैक्ट्रीकर्मियों को प्रवेश नहीं दिया जाएगा। जिले में कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए प्रशासन ने यह निर्णय लिया है।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -
Google search engine

Most Popular