Home उत्तराखंड तूल पकड़ता जा रहा है सोनिया आनंद और मेयर के बीच विवाद का मामला

तूल पकड़ता जा रहा है सोनिया आनंद और मेयर के बीच विवाद का मामला

0

देहरादून : पार्क की एनओसी रद्द करने को लेकर गूंज संस्था की अध्यक्ष सोनिया आनंद की ओर से मेयर सुनील उनियाल गामा के साथ की गई अभद्रता का मामला तूल पकड़ता जा रहा है। शुक्रवार को भाजपा पार्षदों ने पहले नगर निगम और फिर एसएसपी कार्यालय में प्रदर्शन किया। इस दौरान उन्होंने एसएसपी को शिकायती पत्र देकर आनंद के खिलाफ कार्रवाई की मांग की। वहीं, सोनिया आनंद ने भाजपा और मेयर पर मामले में राजनीति करने का आरोप लगाते हुए नगर निगम प्रशासन को पर्यावरण विरोधी करार दिया। कहा कि भाजपा सामाजिक संस्थाओं को कुचलने का प्रयास कर रही है। इसके विरोध में सड़क पर उतरकर आंदोलन किया जाएगा।

मेयर से अभद्रता के विरोध में बृहस्पतिवार को नगर के कर्मचारियों ने हड़ताल कर भाजपा पार्षदों के साथ प्रदर्शन किया था। शुक्रवार को भाजपा पार्षदों ने नगर निगम और एसएसपी कार्यालय में प्रदर्शन किया। उन्होंने नगर आयुक्त और एसएसपी को ज्ञापन देकर सोनिया आनंद के खिलाफ कार्रवाई की मांग की। साथ ही गूंज संस्था की ओर से सहस्त्रधारा रोड पर बनवाए गए पार्क को अवैध बताते हुए ध्वस्त करने की मांग उठाई। इस दौरान पार्षद भूपेंद्र कठैत, अमिता सिंह, राजेश रावत, सहित भाजपा के सभी पार्षद मौजूद रहे।

दूसरी ओर, इस मामले में सोनिया आनंद ने मेयर सुनील उनियाल गामा और नगर निगम प्रशासन को पर्यावरण विरोधी करार दिया। उन्होंने कहा कि शहर के प्रथम नागरिक एक पार्क का संरक्षण नहीं कर पा रहे हैं तो पूरे शहर का कैसे करेंगे। भाजपा इस मुद्दे पर राजनीति कर रही है। पार्क उन्होंने आम लोगों और बुजुर्गों के लिए बनवाया था लेकिन मेयर को यह सामाजिक कार्य रास नहीं आया। आरोप लगाया कि मेयर और भाजपा सरकार सामाजिक संस्थाओं को खत्म करने का प्रयास कर रही है। इसके खिलाफ वह सड़कों पर उतरकर प्रदर्शन करेंगी।
नगर निगम ने पार्क का शिलापट्ट हटाया
नगर निगम की टीम शुक्रवार को सहस्त्रधारा रोड स्थित राजेश्वरपुरम पहुंची और पार्क पर लगे शिलापट्ट को तोड़ दिया। साथ ही यहां अतिक्रमण को भी हटा दिया। उधर, सोनिया आनंद ने कहा कि नगर निगम ने शिलापट्ट तोड़कर भगवान बुद्ध और पद्मश्री डॉ. अनिल जोशी का अपमान किया है।