Home Latest News सावधान : छायादीप सिनेमा हॉल को फर्जी तरीके से बेचने की तैयारी, चार गिरफ्तार!

सावधान : छायादीप सिनेमा हॉल को फर्जी तरीके से बेचने की तैयारी, चार गिरफ्तार!

0
सावधान : छायादीप सिनेमा हॉल को फर्जी तरीके से बेचने की तैयारी, चार गिरफ्तार!

देहरादून: थाना कोतवाली नगर क्षेत्र के अंतर्गत चार आरोपियों ने करोड़ों के बंद पड़े छायादीप सिनेमा घर को फर्जी कागजात बनाने के बाद, उसे अवैध कूटरचित दस्तावेजों के साथ बेचते हुए पुलिस ने राजपुर रोड पेसिफिक होटल के पास से गिरफ्तार किया है। 13 जुलाई को तनमीत सिंह निवासी नई दिल्ली ने थाना कोतवाली नगर में शिकायत दर्ज कराई की तनमीत सिंह का नेश विला रोड पर छायादीप सिनेमा हाल है, जो तनमीत सिंह नाम पर रजिस्टर्ड एवं दाखिला खारिज है।

जिसकी जमीन की देखरेख एवं कोर्ट पैरवी के लिए रकम सिंह निवासी रेस कोर्स देहरादून को रखा हुआ है। दो-तीन दिन पहले रकम सिंह का फोन आया। उसने पूछा क्या आप अपनी जमीन किसी को बेच रहे हैं? तब तनमीत ने मना किया। फिर थोड़ी देर बाद रकम सिंह का दोबारा फोन आया। उसने बताया आपके नाम से किसी संदीप जैन और रविंद्र सिंह नाम के आदमी को 50 लाख रुपए देकर रजिस्टर्ड रसीद बनी हुई है। जिसमें सौरभ पोखरियाल और लक्ष्मीचंद के बातौर गवाह हस्ताक्षर हुए हैं। वह छायादीप सिनेमा घर को कुछ लोगों को बेचने की फिराक में हैं।

इस पर हम लोगों ने उस पार्टी से संपर्क किया। हम खुद ही उसके खरीददार बने। इसकी सूचना धारा चौकी दी गई। पुलिस कर्मचारियों को इस बात की जानकारी दी कि हम लोग इस सौदे में जा रहे हैं, आप यदि जल्दी आ जाए तो वह सारे लोग रंगे हाथ पकड़े जा सकते हैं। जिसके बाद आज होटल पेसिफिक राजपुर रोड से फर्जी, कूट रचित दस्तावेज व अन्य कागजातों के साथ चार रविंद्र, संदीप, लक्ष्मी और सुधीर को गिरफ्तार किया गया।

कोतवाली प्रभारी विद्याभूषण नेगी ने बताया कि चारों आरोपी प्रॉपर्टी डीलिंग का काम करते हैं। रविंद्र सिंह ने देहरादून में नेशविला रोड पर छायादीप सिनेमा हाल को ढूंढा. जिसके मालिक के साथ पूर्व में सिनेमा घर में रहने वाले के साथ कब्जे का विवाद चल रहा है।

चारों आरोपियों ने षड्यंत्र के तहत सिनेमा घर की एक रसीद एग्रीमेंट सिनेमा घर के मालिक तनमीत से संदीप जैन और रविंद्र सिंह के नाम से बनाई. उस पर सुधीर पोखरियाल और लक्ष्मी चंद ने गवाह के तौर पर अपने हस्ताक्षर किए। कब्जा वाले व्यक्ति सत्तार खान से फर्जी समझौता नामा तैयार किया गया. वकील के माध्यम से संपत्ति के पूर्व के दाखिल खारिज रजिस्ट्री आदि कागजात निकाले। जिसके बाद वे सिनेमा घर को 13 करोड़ रुपये में बेचने वाले थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here