Tuesday, August 9, 2022
Pahad News
HomeLatest NewsPAHAD NEWS : पौड़ी के ननकोट बैंड में बच्चों के फंसे होने...

PAHAD NEWS : पौड़ी के ननकोट बैंड में बच्चों के फंसे होने की सूचना, डीएम एसएसपी NDRF एसडीआरएफ पहुंची मौके पर !

पहाड़ न्यूज, पौड़ी  :

अभी अभी जिला जनपद आपदा कंट्रोल रूम को जनपद पौड़ी में भूकंप आने की सूचना मिली है।
प्राप्त सूचना के तहत नंदकोट में एक भवन के गिरने की सूचना मिली है, जिसमें 4 से 5 लोगों के फंसे होने की बात की गई है। आपदा प्रबंधन सहित IRS से जुड़े अधिकारी और कर्मचारी राँसी स्थित कंट्रोल में पहुँच चुके हैं। सभी कॉर्डिनेटिंग विभाग अपनी–अपनी टीम को घटनास्थल के लिए रवाना कर रहे हैं।


बताया जा रहा है कि घटना की जिसको जैसी जानकारी मिली वह घटना स्थल की तरफ तुरंत दौड़ पड़ा। यही वजह रही की समय रहते नंदकोट में राहत और बचाव टीम पहुँच गई।

स्वास्थ्य विभाग की एंबुलेंस टीम मय चिकिस्तक मौके पर पहुँच गई है। बताया जा रहा है कि नंदकोट लोग भवन के अंदर फंसे हुए हैं।
वहीं नंनकोट में ही एक अन्य भवन के गिरने की भी सूचना मिली है।
जिसमें में 3 लोगों को resque कर लिया गया है। वहीं इनमें 1 गंभीर रूप से घायल है। घायलों को एंबुलेंस के माध्यम से अस्पताल भेजा जा रहा है।

जिलाधिकारी डॉ विजय कुमार जोगदंडे और वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक यशवंत सिंह चौहान टीम सहित मौके पर मौजूद हैं ।घटनास्थल पर
वहीं नानकोट बैंड के उपर 6 बच्चों के फंसे होने की सूचना है आ रही है। चारो तरफ अफरातफरी का माहौल है तुरंत रेस्पॉन्स देते हुए NDRF मौके पर पहुँच गई है और फंसे बच्चों को रेस्क्यू करने की योजना बनाई जा रही है।


वहीं पौड़ी बस अड्डेमें एक बस क्षतिग्रस्त होने की सूचना प्राप्त हुई है। जिसमें त्वरित कार्यवाही करते हुए एसडीआरएफ व एनडीआरएफ की टीम मौके पर पहुंची।
जिसमें तीन के घायल व एक की मृत्यु की सूचना प्राप्त हुई है। त्वरित कार्यवाही करते हुए घायलों को प्राथमिक उपचार देखकर अस्पताल के लिए भेज दिया गया है। वही फंसे हुए घायल बच्चों को रेस्क्यू कर किया जा रहा है। एनडीआरएफ, एसडीआरएफ और fire police की टीम लगातार राहत और बचाव कार्य में लगी हुई है।


इस तरह से डीएम पौड़ी अपने पूरे प्रशासनिक और तमाम संबंधित विभाग इस मौक ड्रिल में हिस्सा ले रहे हैं। जिसका परिणाम बेहद शानदार रहा। चौंकिएगा नहीं यह एक यह सब एक मॉक ड्रिल का समाचार है। इसके बारे में डीएम और एनडीआरएफ के अधिकारियों ने बताया कि यह मॉकड्रिल आपदा प्रबंधन के तहत तैयारियों को अपडेट रखने का एक पारंपरिक हिस्सा थी। इससे व्यवस्थाओं की कमियों को आंकने और दूर करने में मदद मिलती है। मॉकड्रिल में एनडीआरएफ, एसडीआरएफ और पुलिस–फायर स्वास्थ्य और अन्य कई विभागों ने हिस्सा लिया।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular